nafrat shayari in hindi

nafrat shayari in hindi -नफरत शायरी इन हिंदी

Hello friends aapke ke liye pesh hai nafrat shayari in hindi  jo ki aap apne dosto ke sath share kar sakte hai aur aap hamre sath jude rahne ke liye dhanyabaad . 



 

अकेला सा मेहसूस करो जब तनहाई मे,

याद मेरी आये जब जुदाई मे,
मेहसूस करना तुम्हारे ही पास हुँ मैं,
जब चाहे मुझे देख लेना अपनी परछाई मे…

 

Akela sa mehsoos karo jab tanhai mai,
Yaad meri aaye jab judai mai
Mehsoos karna tumahare hee pass hun main
Jab chahe mujhe dekh lena apni parchayi  main.


 

माना के मुझसे वह खफा रहे होंगे,

हो सकता है वह मुझे आज़मा रहे होंगे,
हम उतनी ही शिद्दत से याद करेंगे उन्हें,
जितनी शिद्दत से वह हमें भुला रहे होंगे…

 

Maana ki mujhse wah khafa rah honge
Ho sakta hai wah mujhe aazma rahe honge
Hum utni hee siddhat se yaad karenge unhe
Jitni siddhat se wha hame bhula rahe hinge.

 


                                  nafrat shayari in hindi 


 

यह जरूरी तो नही है की लोग प्यार की मुरत हो,
यह भी जरूरी तो नही की लोग अच्छे और खुबसूरत हो,
पर सब से खूबसूरत वह लोग हैं,
जब लोग आपके साथ हो जब आपको उनकी सबसे ज्यादा जरूरत हो।

 

Ye Jaroori to nahi hai ki log pyar ki murat ho
Ye bhi Jarori to nahi ki log accha or khubsurat ho
Par sabse khubsoorat wo log hai,
Jab log apke sath ho jab aapko unki sabse jayada jarurat ho.


 

अगर हो वक्त तो मुलाकात दीजिये,

दिल कुछ कहना चाहे तो बात कीजिए,
यू तो मुश्किल है आपसे दुर रहना,
पर अगर थोड़ा सा वक़्त मिल जाये तो हमको याद जरूर कीजिए.

 

Agar ho waqt ti mulakat kijiye.
Dil kuch kehna chahe ti baat kijiye.
Yu ti muskil hai aap se door rehna.
Par agar thoda sa vaqt mil jaye to humko yaad jaroor kijiye.

 


 

आज फिर उसने मिलने का वादा किया था,

एक साथ जीने मरने का इरादा किया था,
जो दुर हो गए हमसे तो,
कोई मजबूरी ही होगी,
वरना प्यार तो यारो हमसे,
उसने भी हद से ज्यादा किया था…

 


Aaj phir usne milne ka waada kiya tha,
Eksath jeene marne ka erada kiya tha
Jo door ho gaye humse to
Koi majboori hee hogi
Warna pyar to yaro humse
Usne hud se jayada kiya tha.


 

ना तस्वीर है उनकी जो दिदार किया जाये,

ना मेरे पास है वो जो इश्क़ का इज़िहार किया जाये,
ये कौन सा दर्द दे दिया है उसने मुझे,
ना उसको कुछ कहा जाये और
ना उसके बिना अब रहा जाये…

 

Na tasveer hai unki jo deedar kiya jaaye
Na mere pass hai wo jo ishq ka izhaar kiya jaaye
Ye kon sa dard de diya hai usne mujhe
Na usko kuch kaha jaye or
Na uske bina ab raha jaye.


 

हम उनको पाकर खोना नही चाहते,

उनकी जुदाई मे रोना नही चाहते,
दुआ करो वो सिर्फ मेरे ही रहे,
क्यूंकि उनके सिवा किसी और के हम होना नही चाहते…

 

Hum unko pakar khona nahi chahate ,
Unki judai main rona nahi chahate,
Dua karo wo sirf mere hee rahe,
Kyoki unke shiva kisi or ke hum hona nahi chahate.


 

 

                            nafrat shayari in hindi 

1 thought on “nafrat shayari in hindi -नफरत शायरी इन हिंदी”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *