bewafa shayari-बेवफा शायरी

bewafa shayari in hindi – बेवफा शायरी।

Hello mere priye dosto app sabhi ke liye hazir hai bewafa shayari  in hindi and english apni love or girlfriend ko bhej sakte hai. 

 

Teri her ek sansh teri bewafai [Bewafa shayari in hindi] ki nishani hai.
teri her ek baat meri zindagi ki kahani hai.
Wo kya samajhte mere iss pyar ko.
Kyoki unke liye mere ansoon bhi paani the..

 

bewafa shayari-बेवफा शायरी

 

तेरी हर एक सांस तेरी बेवफाई की निशानी है।
तेरी हर एक बात मेरी ज़िंदगी की कहानी है।
वो क्या समझते मेरे इस प्यार को।
क्योकि उनके लिए तो मेरे आंशू भी पानी थे।

 

 

Pyar ka dard diya bhi wo bhi gehra diya-

Pyar ka dard diya bhi wo bhi gehra diya.
Karke bewafa humse gairo se bawa kiya.
Zakhmi dil karne wale tera bhi sukriya.
Mohabbat ka asli maksad mujhko sikha diya..

 

प्यार का दर्द दिया भी वो भी गहरा दिया।
करके बेवफा हमसे गैरो से बफा किया।
ज़ख़्मी दिल करने वाले तेरा भी शुक्रिया।
मोहब्बत का असली मकसद मुझको सीखा दिया।।

 

Na jaane kyo tere khwabo ne-

Na jaane kyo tere khwabo ne mujhko rula diya,
Karta bhi kya mai tumne jo bhula diya,
Na hee karte ye mohabbat na hee milti ye saja,
Sayad tujhko mere pyar ne hee bewafa bana diya.

 

न जाने क्यों तेरे ख्वाबो ने मुझको रुला दिया ।
करता भी क्या मैं तुमने जो भूला दिया।।
न ही करते ये मोहब्बत न ही मिलती ये सजा।
शायद तुझको मेरे प्यार ने ही बेवफा बना दिया।।

 

Kahte hai log mujhse jab – Bewafa Shayari in hindi

Kahte hai log mujhse jab bewafa thi to dil hee kyo diya ..
Kaise batate hum unko
Zindagi chali jaati agar dil na dete unko…

 

कहते है लोग मुझे जब बेवफा थी तो दिल ही क्यो दिया।
कैसे बताते हम उनको।
ज़िंदगी चली जाती अगर दिल न देते उनको।।

Rooth kar unka humse phir maan jaana- 

Rooth kar unka humse phir maan jaana.
Aisi adayen unki humko khoob pasand aati hai.
Waise to subkuch chod chuke hai hum..
Magar kya karo aee dost wo bewafa aaj bhi yaad bahut aati hai..

 

bewafa shayari-बेवफा शायरी

 

रूठ कर उनका हमसे फिर मान जाना ।
ऐसी अदाए उनकी हमको खूब पसंद आती है।।
वैसे तो सबकुछ छोड़ चुके है हम।
मगर क्या करे ऐ- दोस्त वो बेवफा आज भी याद बहुत आती है।।



 



 

Dillagi hoti to bhula dete tujhko- bewafa shayari in hindi

दिल्लगी होती तो भुला देते तुझको।
मोहब्बत हुई है मेरी नस नस में बसी हो तुम।।

Dillagi hoti to bhula dete tujhko.
Mohabbat hui hai, meri nus nus main basi ho tum.

 

Usne tod diya dil par mere arma bahi hai.

उसने तोड़ दिया दिल पर मेरे अरमां वही है,
दूर रहता हूं तुमसे फिर भी प्यार वही है,
मैं जनता हूं कि अब हम मिल नहीं पायेंगे,
फिर भी मेरी इन आँखों में सदियो से इंतज़ार वही है

 

Usne tod diya dil par mere arma bahi hai.
Door rehta hoon tumse phir bhi pyar wahi hai.
Main jaanta hunn ki ab hum mil nahi payenge .
Phir bhi meri in ankhon mai sadiyon se intazar wahi hai.

 

Aag dil mai jal uthi jab wo mujhse khafa huye.

आग दिल मैं जल उठी  जब वो मुझसे खफ़ा हुए।
मुझे मालूम हुआ तब जब वो बेवफा हुए।
मुझसे करके वफ़ा कुछ दे ना सके वो।
पर ये कैसा दर्द दे गए मुझे जब वो जुदा हुए।।

 

Aag dil mai jal uthi jab wo mujhse khafa huye.
Mujhe malum hua tub jub wo bewafa huye.
Mujhse karke wafa kuch de na sake wo.
Par ye kaisa dard de gaye mujhe jab wo juda huye.

 

Maine chaha kisi ko is kadar ki- bewafa shayari in hindi

मेने चाहा किसी को इस कदर, की किसी ने किसी को चाहा नही।,
हमने जान हथेली पर रखदी थी उसके बास्ते,
अफसोस उस बेवफा ने मेरे प्यार को जाना ही नही ।

Maine chaha kisi ko is kadar ki.
Kisi ne kisi ko chaha nahi.
Humne jaan hatheli par rakh di thi uske waste.
Afsos us bewafa ne mere pyar ko jana he nahi.

 

 

Ek tujhe paane ki khatir sare bazar main

एक तुझे पाने की खातिर सरे बाजार में बदनाम हो गए!
तेरे इस प्यार की खातिर घर वालो को भी हम छोड़ कर आये !
अगर मुझे पता होता की तू बेवफा निकलेगी |
तो तुझ बेवफा को पाने से पहले हम अपनी मोत को गले लगा लेते !!

 

Ek tujhe paane ki khatir sare bazar main badnam ho gye.
Tere iss pyar ki khatir gharwalo ko bhi hum chod kar aaye.
Agar mujhe pata hota ki tu bewafa niklegi .
To tujh bewafa ko pane se pehle hum mout ko gale laga lete.

 

 

Hum chahakar bhi tere pyar ko na bhula

हम चाहकर भी तेरे प्यार को ना भुला पाएंगे
हम तो बस एक एक ही वादा निभा पायेंगे ।
हम खुद मिट जाएंगे इस जहां से लेकिन
तेरा नाम हम अपने दिल से कभी मिटा नहीं पाएंगे।

Hum chahakar bhi tere pyar ko na bhula payenge.
Hum to bus ek hee wada nibha payenge.
Hum khud mit jaayenge iss jaha se lekin.
Tera naam hum apne dil se kabhi bhi mita nahi payenge.

 

 

Humne unse mohabbat bhi aisi ki shayad

हमने उनसे मोहब्बत भी ऐसी की शाय़द ही कोई किसी से करें,
और उसने धोखा भी ऐसा दिया शायद ही कोई किसी को दें,,
बेरहम हो गया है शायद वो जो मेरी ज़रूरत अब समझा नहीं करते,
कभी जो बेहिसाब बातें किया करते थे हमसे अब हम कैसे है वो यह भी पूछा नहीं करते।।

 

Humne unse mohabbat bhi aisi ki shayad hee koi kisi se kare.
Or usne dhoka bhi aisa diya shayad hee koi kisi ko de.
Beraham ho gaye hai sayad wo jo hamari jarurat ab samajha nahi karte.
Kabhi jo behisaab baten kiya karte the humse .
Ab hum kaise hai wo ye bhi pucha nahi karte.

 

 

Iss jahan main teri bewafa ishq ke charche na karenge .

इस जहांन मे तेरी बेवफा इश्क़ के चर्चें ना करेंगे ,
हम मर जायेंगे लेकीन अपने प्यार को रूसवा ना करेंगे ,
मेरी इन निगाहो से अगर तुमको कोई गिला है ,
तो हम दूर से भी तुझ बेवफा को देखा ना करेंगे ।

 

Iss jahan main teri bewafa ishq ke charche na karenge .
Hum mar jaayenge lekin apne pyar ko ruswa na karenge.
Meri in nigahon se agar tumko koi gila hai.
To hum door se bhi tujh bewafa ko dekha na karenge.

 

 

Wo sanam roye to bahut par mujhse muh –
वो सनम रोए तो बहुत पर मुझसे मुंह चुरा कर रोए।
कोई मजबूरी रही होगी उनकी जो दिल तोड़कर रोए।
मुझे दिखाकर कर दिए बेवफा ने मेरी तस्वीर के टुकड़े।
पता चला वो बेवफा मेरे पीछे वो उन्हें जोड़कर रोए।

 

Wo sanam roye to bahut par mujhse muh chura kar roye.
Koi majboori rahi hogi unki jo dil todkar roye.
Mujhe dikhakar kar diye bewafa ne meri tasweer ke tukde .
Pata chala wo bewafa mere peeche wo unhe jodkar roye.

 

 

Ham to tere liye khusiyo ka khajana lekar

Ham to tere liye khusiyo ka khajana lekar Aaye the,
Teri kasam hum to tujhe apne dil ka,
khud banane Aaye the,
Kis khata ki hume  saja de di bewafa
ham to jaan tujhe apna banane Aaye the

 

हम तो तेरे लिए खुशियों का खजाना लेकर आये थे।
तेरी कसम हम तो तुझे अपने दिल का खुदा बनाने आये थे।
किस खता की हमे सजा दे दी बेवफा ।
हम तो जान तुझे अपना बनाने आये थे।।

 

 

Mohabbat ko na mohabbat se juda kijiye

Mohabbat ko na mohabbat se juda kijiye
are kisi ke Dil ko na Dil se juda kijiye.
Mujhse Hui he khata to mujhe saja dijiye,.
agar tum rah sakte ho mere  Bina
to khuda se fariyaad mai meri  mot ki Dua kijiye.

 

मोहब्बत को न मोहब्बत से जुदा कीजिये ।
अरे किसी के दिल को न दिल से जुदा कीजिये।
मुझसे हुई है खता तो मुझे सजा दीजिये।
अगर तुम रह सकते हो मेरे बिना तो।
खुदा से फरियाद मैं मेरी मौत की दुआ कीजिये।

 

Mujhe zindagi dene wala marta chod chal

मुझे जिंदगी देने बाला मरता छोड़ चल दिया।
अपनापन मुझे जताने वाला तन्हा छोड़ गया ।
जब महसूस हुई  जरूरत हमें अपने एक हमसफर की
वह जो साथ चलने वाले थे वह भी रस्ता मोड़ गये।

 

Mujhe zindagi dene wala marta chod chal diya.
Apanapan mujhe jatane wala tanha chod chal diya.
Jab mehsoos hui jarurat hume apne ek humsafar ki
Wah jo sath chalne wale the wah bhi rasta mod gaye.

 

 

Kisi ke pyar ki khatir mohabbat ki inteha

मेहबूब के प्यार की खातिर मोहब्बत की इन्तेहाँ कर दो,
लेकिन इतना भी मत चाहो उस बेवफा को कि उसको खुदा कर दो,
मत प्यार करो किसी को टूट कर इस कदर इतना,
कि तुम अपनी वफाओं से उसको बेवफा कर दो।

 

Mehboob ke pyar ki khatir mohabbat ki inteha kar do.
Lekin itna bhi mat chaho us bewafa ki usko khuda kar do.
Mat pyar karo kisi ko tutkar iss kadar itna.
Ki tum apni bawafao se usko bewafa kar do.

 

 

Mujhe pyar hai bus tumse naam bewafa shayari in hindi

मुझे प्यार है बस तुमसे नाम का बेवफाई मत लगाना।
गैर समझकर मुझपे इल्जाम बेवजह मत लगा देना,
जो सिला दिया है तुमने मेरी मोहब्बत का ।
वो दर्द हम सह लेंगे ।
मगर ऐसी सजा प्यार में किसी को मत देना।

 

Mujhe pyar hai bus tumse naam bewafai ka mat lagana.
Gair samajhkar mujhpe ilzaam bevajah mat laga dena.
Jo sila diya hai tumne meri mohabbat ka.
Wo dard hum sah lenge, magar aisi saja pyar mai kisi ko mat dena.

 

 

In khoobsoorat chehro ke liye aayene kurbaan

इन खूबसूरत चेहरों के लिए  आईने कुर्बान किये हैं हमने।
बस शौक शौक मैंने अपने बड़े नुकसान किये हैं।
भरी महफ़िल में मुझको गालियाँ देकर है बहुत खुश​ है।
जिस बेवफा पर मैंने कितने एहसान किये है।

In khoobsoorat chehro ke liye aayene kurbaan kiye humne.
Bus shok shok main apne bade nuksaan kiye hai.
Bhari mehfil mai mujhko gaaliyan dekar hai bahut khus hai.
Jiss bewafa par maine kitne ehsaan kiye hai.

 

 

Chaha tha humne jisse —

चाहा था हमने जिसे दिल से उसे भुलाया न गया,
जख्म मेरे दिल का लोगों से छुपाया भी न गया,
बेवफाई के बाद ये दिल प्यार करता है उसको,
कि इस बेवफाई का इल्ज़ाम भी उस बेवफा पर लगाया न गया।

 

Chaha tha humne jisse , dil se use bhulaya na gaya.
Zakhm mere dil ka logo se chupaya bhi na gaya.
Bewafai ke baad ye dil pyar karta hai usko.
Ki iss bewafai ka ilzaam bhi us bewafa par lagaya na gya.

 

Bewafa shayari in hindi – बेवफा शायरी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *